डाक्टर मरीज और रिश्तेदार (२२ जून २०१२)

डाक्टरों का धंधा, खूब चल रहा है
दिन में कम, रात को बढ रहा है
हर दम देखो ,वो ऊपर ही ऊपर चढ़ रहा है
छोटे से क्लिनिक से, बड़ा हॉस्पिटल हो रहा है |

मरीजों की संख्या बढ रहीं है
मर्जों की संख्या डाक्टर बढा रहा है
सर का दर्द ले कर आते हैं
और पेट का ऑपरेशन करवा जाते हैं |

कुछ दिन बाद, पता चलता है
कभी किडनी, तो कभी दिल गायब मिलते हैं
उनकी जगह, नकली ही काम कर रहे होते हैं
फ्री में ही सब कुछ करवा आते हैं |

एक दिन अचानक पेट में, दर्द उठता है
दूसरे डॉक्टर से चेक- अप करवाते हैं
वह किडनी और हार्ट की प्रॉब्लम बतलाता है
और कुछ टेस्ट करवाने को लिखता है |

बेचारा मरता क्या न करता
वो सब टेस्ट करवाता है
टेस्ट का रिजल्ट जब सामने आता है
सुन कर हैरान रह जाता है |

किडनी और दिल,
सब नकली काम कर रहे होते हैं
उनकी एक्सपायरी डेट भी,
एक महिना बतलाता है |

ये सब सुन कर चक्कर आ जाता है,
डॉक्टर फिर एक नया टेस्ट लिखता है
टेस्ट के रिजल्ट में,
आँखों का ऑपरेशन बतलाता है |

और फॉर्म पर साईन करवाता है
मैं अपने ऑपरेशन के लिए, खुद जिम्मेदार हूँ
डाक्टर का इसमें
कोई हाथ नहीं है, लिखवाता है |

और फिर नीचे साईन करवाता है
मैंने डॉक्टर से पूछा, इसमें आँख का तो कहीं जिक्र नहीं है
डॉक्टर बोला, ये जनरल फार्मेट है
हर किसी के लिए, अलग-अलग फार्मेट नहीं होता है |

मरीज परेसान हो गया
और रिश्तेदार हैरान हो गए
सब पैसे का इंतजाम करने लगे
डॉक्टर ऑपरेशन में लग गए |

पैसे पहले ही जमा हो गये
और उधर ऑपरेशन स्टार्ट हो गये
आप्रेसन हो कर मरीज बाहर आया
रिश्तेदारों को भी थोडा सुकून आया |

डॉक्टर ने कुछ,
ऐहतियात बरतने को कहा
और पन्द्रह दिन पट्टी,
आँखों पर बंधे रहने को कहा |

सब प्रसन हो रहे थे,
मरीज एक्सपायरी डेट को सोच रहा था
पट्टी खुली तो सब अँधेरा था,
आँखों का हाल भी निराला था |

और फिर, दिल और किडनी का ख्याल आया
फिर एक नए डॉक्टर का पता निकाला
जिन्दगी भर की कमाई, डॉक्टर की हो गई
रिश्तेदारों पर भी भारी पड गई |

नए ऑपरेशन की तैयारी होने लगी
और एक साल की गारंटी वाला दिल मिल गया
और किडनी छ महीने वाली मिली
जैसे तेसे सब ऑपरेशन करवाये |

दिल को थोडा चैन आया
और किडनी पर थोडा रहम आया
और फिर नए ऑपरेशन के लिए मरीज कंमाने लगा
सब रिश्तेदार दूर-दूर नज़र आने लगे I

बीबी भी नए स्थाई पति को ढूडने लगी
बच्चे भी पापा से दूर होने लगे
कुछ दिनों में बीबी ने नया पति ढूड लिया
और वो वहीँ जाकर सेटल हो गई I

इस पर हार्ट अटैक आया
जैसे तेसे पड़ोसियों ने हॉस्पिटल में भरती करवाया
डॉक्टर ने कुछ दवाईयों का परचा थमाया
पड़ोसियों ने बीबी और बच्चों को फोन मिलाया |

इस पर फोन पर जवाब आया
मैंने परमानेंट पति है पाया
बड़ी मुस्किल से इस पति से छुटकारा पाया
जैसे-तैसे पड़ोसियों ने दवाई का खर्चा उठाया |

फिर बच्चों का जवाब आया
हमने एक बिजनेसमेन को अपना पिता बनाया
और मरीज को एक्स पापा बतलाया
पड़ोसियों को ये सब सुन कर चक्कर, आया I

पड़ोसियों ने हास्पिटल से छुटकारा पाया
और मरीज को लावारिस बतलाया
इस पर डॉक्टर ने, वेंटीलेटर हटवाया
और मरीज को, तड़फता हुआ ही बाहर फिकवाया |

मरीज कूड़े के डेर पर नज़र आया
लोगों ने उसे शराबी समझ कर दुत्कारा
और उसको मारकर दूर भगाया
मरीज ने वहीँ अपना दम तुडवाया-३ |

Kamlesh Sanjida photo
कमलेश संजीदा , गाजियाबाद

One Response

  1. डी. के. निवातिया dknivatiya 02/03/2016

Leave a Reply