अपना हमें बना लेना …

हमको ख्वाबों में ख्यालों में तुम बसा लेना,
अपने होठो पे हमको गीतों-सा सजा लेना,
हम क़यामत तलक न साथ तेरा छोड़ेंगे,
हम हैं हाज़िर, हमें जब चाहे आजमा लेना,

कोई महफ़िल हो या तन्हाई का आलम कोई,
बड़ी मशरूफ़ रहो या रहो खोयी-खोयी ,
हर घड़ी साथ निभाने का तुमसे वादा है,
जी में जब आये, हमें बेझिझक बुला लेना,

साथ कोई दे न दे तेरा कहीं कोई बात नहीं,
जलते अंगारे-से दिन हो या सर्द रात सही,
खुद को तन्हा ना समझना ना करना गम कोई,
हम तुम्हारे ही हैं,अपना हमें बना लेना ..

One Response

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 01/03/2016

Leave a Reply