मृत्यु और जीवन …………..( लेजेन्ट ऑफ़ फैन भगत सिंह 2016)

मृत्यु और जीवन …………..( लेजेन्ट ऑफ़ फैन भगत सिंह 2016)

जीवन की सबसे बड़ी सचाई की जो इस दुनिया में आया है उसे जाना ही होगा
बस फर्क इतना है कोई वक़्त से पहले चला जाता है और कोई वक़्त के बाद
जीवन बड़े अनोखे कर्मो से मिला है इस दुनिया में आये हो तो कुछ करके जाओ
कुछ का मतलब देश का और परिवार का नाम रोशन करो ना की नाम डुबाओ
जीवन बड़ी मुश्किलो से मिलता है इसे नशे में मत डुबाओ क्योकि नशा वो तेज़ाब है
जिसमे जीवन को अगर डुबाया तो जीवन खत्म |
जीवन का एक मात्र लक्ष्य है की तुम्हे जीवन किसी कारणवश मिला है
दुनिया में नाम बनाने के लिए मिला है अगर ऐसा नहीं है तो तुमने ऐसे कौन से अच्छे
कर्म किये है जो तुम्हे जीवन मिला, जीवन की एक मौलिक इकाई तुम्हारा सवस्थ शरीर
अगर वो नही तो कुछ नही, स्वस्थ शरीर से बड़ी कोई कमाई नहीं क्योंकि अगर तुम स्वस्थ हो
तो तुमसे अमीर कोई नहीं और अगर सब कुछ होते हुए भी तुम्हारा शरीर स्वस्थ नहीं तो तुमसे गरीब कोई नहीं
अब मैं आपको मृत्यु के बारे में कुछ बताना चाहता हूँ
तुम मृत्यु से चाहे कितनी भी दूर भागो वो तुम्हे खोज ही लेगी
क्योंकि उसे बुलाने वाले भी आप ही हो
हमारा शरीर मिट्टी से बना है ये तो सिर्फ जलकर राख बन जाता है
मगर सच कहूँ तो इंसान उसके गुणों से जाना है उसके अवगुणो से नहीं
तुम्हे अपने कर्मो का फल जरूर भोगना होगा
कुछ ऐसा करो की लोग तुम्हारे गुणों से तुम्हे याद करें
तुम्हारी लोग मिसाले दे
तुम्हे अपना आदर्श माने……….कहते है कि किसी का उदाहरण देना बहुत आसान है मगर किसी के लिए
उदहारण बनना बहुत मुश्किल है कुछ ऐसा करो कि लोग तुम्हारे उदहारण दे |
जैसे मेरे आदर्श शहीदे आज़म शहीद भगत सिंह के लोग उदहारण देते है उन्हें आज के नौजवान अपना आदर्श मानते हुए गर्व महसूस करते है जिन्हे मैं खुद अपना आदर्श मानता हूँ शहीदे आज़म शहीद भगत सिंह जी का नाम ही लोगो के दिलो में जूनून पैदा कर देता है |

लेखक :- साहिल शर्मा s /o मनोज शर्मा ( लेजेन्ट ऑफ़ फैन भगत सिंह 2016)
संपर्क :- +91 9896976601
+91 8570066412