सनम पे….

जीने की लत्त तुझे हो शायद
ऐ-ज़िंदगी,
हमें तो मरने की है,हर बार
सनम पे,

————————
…..इंदर भोले नाथ……..

Leave a Reply