……ज़िन्दगी है सबसे अच्छा साथी…..

जिसे तहे दिल से हम अपना समझते थे
जबसे उसने मुझे अजनबी का दर्जा क्या दिया
समझो तबसे ज़िन्दगी ने दूसरों पर से भी भरोसा ही उठा दिया….!!!
जहाँ सिर्फ मुस्कुराहटों की बरसात में हम भींगा करते थे
अब वही मुस्कुराहटें अंदर दफना कर
ज़िन्दगी ने हर लम्हों को हंसकर जीना सीखा दिया …….!!!
जहाँ किसी की मौजूदगी हमारे अकेलेपन की दवा हुआ करती थी
आज उसी के बिना ज़िन्दगी ने हमें अकेला रहना सीखा दिया ….!!!
कभी उसका नाम मेरे लिए मेरी कमजोरी हुआ करता था
उसने मेरे साथ वेवफाई क्या की
ज़िन्दगी ने तो उस नाम से मेरी हिम्मत का अटूट धागा जोड़ दिया….!!!
मैं नादाँ कभी उस बेवफा के खातिर अपनी ज़िन्दगी को छोड़ना चाहा था
और आज देखो उसने ही मुझे सफर में अकेला छोड़ा और
उसी ज़िन्दगी ने मुझे अपने राह में पनाह देकर मेरा हाथ थाम लिया ….
कितना गलत था मैं उस समय तजुर्बे की कमी थी ……
आज तजुर्बा है तो हमें पता हमारी ज़िन्दगी का आधार है ….
अपनी ज़िन्दगी ही हमारे लिए कीमती उपहार है …
ऐसे गैरों को अपने ज़िन्दगी का कीमती समय देना बेकार है ….
खुश रहने के लिए ज़िन्दगी से पक्की दोस्ती करो यही आज का सुविचार है …..

One Response

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 01/03/2016

Leave a Reply