पता बदला है हमने..

पता बदला है हमने, अपने रहने का मेरे यारों,

के अब घर छोड़ के अपना, हम उनके दिल में रहते हैं,

कोई चिठ्ठी, कोई खत गर मेरा आये तो ऐ यारों,

पढ़ा देना उन्हें, हम दिल में बैठे सुनते रहते हैं।

2 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 25/02/2016
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 25/02/2016

Leave a Reply