“अपने आँसूओं को एसे ही बहाया मत कर”

अपने आँसूओं को एसे ही बहाया मत कर ।
जिन्हें धूप पसंद हो, उनपर साया मत कर ।
उसे तो आदत हैं बार बार धोका देने की ,
तु जानबूझकर उसके धोके खाया मत कर ।
अपने भी डाल देते हैं अब जख्मों पर नमक ,
तु सबको अपने घाव यू दिखाया मत कर ।
जिसको प्यार के कसमों की अहमियत ना हो ,
तु एसे बेवफा के वादो को निभाया मत कर ।
हर चीज़ तेरी उसने जलाकर राख कर दी हैं ,
उसकी निशानीसे खुद को तु जलाया मत कर ।
वो तो तुझे भुल गयी ,तु भी उसे भुल जा ;
याद मे उसकी खुद को तु तड़पाया मत कर ।
-एझाझ अहमद

5 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 24/02/2016
  2. एझाझ अहमद Azaz Ahmad 24/02/2016
  3. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 24/02/2016
  4. एझाझ अहमद Azaz Ahmad 24/02/2016
  5. mangala mangala 01/03/2016

Leave a Reply