जो बात है हद से बढ़ गयी है

जो बात है हद से बढ़ गयी है
वाएज़1 के भी कितनी चढ़ गई है
हम तो ये कहेंगे तेरी शोख़ी
दबने से कुछ और बढ़ गई है
हर शय ब-नसीमे-लम्से-नाज़ुक2
बर्गे-गुले-तर से बढ़ गयी है
जब-जब वो नज़र उठी मेरे सर
लाखों इल्ज़ाम मढ़ गयी है
तुझ पर जो पड़ी है इत्तफ़ाक़न
हर आँख दुरूद3 पढ़ गयी है
सुनते हैं कि पेंचो-ख़म4 निकल कर
उस ज़ुल्फ़ की रात बढ़ गयी है
जब-जब आया है नाम मेरा
उसकी तेवरी-सी चढ़ गयी है
अब मुफ़्त न देंगे दिल हम अपना
हर चीज़ की क़द्र बढ़ गयी है
जब मुझसे मिली ‍फ़ि‍राक वो आँख
हर बार इक बात गढ़ गयी है

1- उपदेशक, 2- कोमल हवा के स्पर्श से, 3- दुआ का मन्त्र, 4- टेढ़ापन

Leave a Reply