क्यों तेरे ग़म-ए-हिज्र में

क्यों तेरे ग़म-ए-हिज्र[1] में नमनाक[2] हैं पलकें
क्यों याद तेरी आते ही तारे निकल आए

बरसात की इस रात में ऐ दोस्त तेरी याद
इक तेज़ छुरी है जो उतरती चली जाए

कुछ ऐसी भी गुज़री हैं तेरे हिज्र में रातें
दिल दर्द से ख़ाली हो मगर नींद न आए

शायर हैं फ़िराक़ आप बड़े पाए के[3] लेकिन
रक्खा है अजब नाम, कि जो रास न आए

शब्दार्थ:

  1. ↑ जुदाई के दुख में
  2. ↑ आर्द्र,नमी से भरी हुई
  3. ↑ धुरंधर

Leave a Reply