“हम ईश्क के कर्जदार न थे “

तनहा थे तो भले थे हम,
हम ईश्क के कर्जदार न थे ।
अब काफी है मुझको एक ईशारा,
हम पेहले समझदार न थे ।
एक ईशारे पे तेरे सब लुटा दे,
हम ईतने भी दिलदार न थे ।
मर्जी से दिया उसने सब मुझको,
हम उसके कोइ हिस्सेदार न थे ।
मौत की वजह से मिली दो गर्ज जमीं ,
हम पेहले से जमींदार न थे ।
-एझाझ अहमद

3 Comments

  1. Inder Bhole Nath Inder Bhole Nath 22/02/2016
  2. mangala mangala 01/03/2016
  3. एझाझ अहमद एझाझ अहमद 01/03/2016

Leave a Reply