मेरा स्कूल का आखिरी दिन

है मेरा स्कूल का आखिरी दिन,

इसके बाद रहूगाँ यारो के बिन.,

याद आएगाँ Aniket का गाली चढाना,

गाली चढाकर सबको नचानाँ.,

Devraj की कि Mukta mam ने पिटाई,

लंच मे की फिर Jatin औरो ने धूनाई.,
Rashmi का बात-बात पे रो देना,

priya से था सबको मजे लेना.,

Megha से ना होती दूर,

वो थी उसकी सहेली Nupur.,

Akash था अपना मोँनीटर,

किसी को ना लागे उससे डर.,
अंग्रेजी थी तगडी Deepak की,

विमला कालिया से थी Sanju की दूश्मनी पक्की.,

Vinod sir बनाते सबका कबूतर,

Jubina कोट पहनकर लगती IAS अफसर.,

Ravi करता था हमेशा पढाई,

Veeru की थी भारत से लडाई.,

सूना है Vishal आता ऩा था नहाके,

अपने Rana का पानी पीते हम चूराके.,

Devender के रंग बिरंगे बाल,

Sahil की थी हरकते कमाल.,

भोला सा था जिसका चेहरा.

वो था अपना Manik mehra.,

कोई बूलाता था द्ददू

कोई पूकारे झालोक

अलग-अलग नाम लेते मेरे यार

क्योकि आलोक से था लगभग सभी को प्यार.,

काश वापस आ जाए स्कूल के दिन,

हम सब ना रह पाएगे एक-दूजे के बिन…!

Leave a Reply