उमीदे-मर्ग कब तक

उमीदे-मर्ग कब तक
‍ज़ि‍न्दगी का दर्दे-सर कब तक
यॅ माना सब्र करते हैं महब्बत में
मगर कब तक

दयारे दोस्त हद होती है
यूँ भी दिल बहलने की
न याद आयें ग़रीबों को तेरे दीवारो-दर कब तक

यॅ तदबीरें भी तक़दीरे-
महब्बबत बन नहीं सकतीं
किसी को हिज्र में भूलें रहेंगे हम मगर कब तक

इनायत1 की करम की लुत्फ़ की
आख़ि‍र कोई हद है
कोई करता रहेगा चारा-ए-जख्‍़मे ज़िगर2 कब तक

किसी का हुस्नर रूसवा
हो गया पर्दे ही पर्दे में
न लाये रंग आख़िरकार ता‍सीरे-
नज़र कब तक

1- कृपा, 2- जिगर के घाव का उपचार

Leave a Reply