“नयन तेरे विशाल”

ये नयन तेरे विशाल,
कुदरत का ही है कमाल,
ये अधरों से बहते बोल,
जैसे मदिरा के प्याले अनमोल |

रूप जो तुमने पाया है,
उपरवाले की ही माया है,
धरा पे जैसे,
खुद चाँद उत्तर आया है |

कंचन सी तुम्हारी काया,
समाई जिसमे अनेकों माया,
रहे होश मे कोई कैसे,
पड़ जाये जिसपर,
तुम्हारी छाया |

हिरणी से तुम्हारी चाल,
लहराते हुए ये रेशमी बाल,
अन्गों से बहता योवन,
अधीर करे रह रह कर मेरा मन |

4 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 18/02/2016
    • Ravi Vaid 19/02/2016
  2. Anuj Tiwari 20/02/2016
    • Ravi Vaid 20/02/2016

Leave a Reply