* बुद्धू *

कोई कहता बुद्धू कोई कहता कदु
कहते हैं उसे सामाजिक ज्ञान नहीं
अच्छे-बुरे की पहचान नहीं
करता वह अपना कल्याण नहीं
ज्यादातर वह चुप रहता
टेढ़ी चाल नहीं चलता
छल-प्रपंच से दूर रहता
किसी के प्रति द्ववेश न रखता
सीधा सच्चा बात वह करता
कार्य कर घर-परिवार चलाए
अपना खर्च न बढ़ाए
भौतिक सुख सुबिधाओं से रहता वह दूर ,
खुद सजता सवरता नहीं
सोना-चांदी पहनता नहीं
सभी रिश्तों का वह रखता ध्यान
देना हो किसी को उपहार
या लाना हो कोई आवश्यक सामान ,
जब कोई उसे नजर अंदाज करे
अंदर ही अंदर कुढ़े और जले
इस लिए वह बुद्धू है ,
कोई कहता बुद्धू कोई कहता कदु।

2 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 18/02/2016
  2. नरेन्द्र कुमार नरेन्द्र कुमार 18/02/2016

Leave a Reply