भष्टाचार पर कविता (चोर लूटेरी )

केसी मेरे देश मे भ्रष्टाचारी आई चोर लूटेरी डाकन सी साथ मे महंगा ई लाई फटी हूई मेली चादर सी

Leave a Reply