* साइकल की सवारी *

साइकल की सवारी
है बहुत प्यारी ,
छोटे बड़े गरीब अमिर
सभी को है यह प्यारी ,
ज्यादा इस में न हो खर्चा
इसे चलाने के लिए
न चाहिए इंधनं न परमिट
न किसी प्रकार का पर्चा ,
यह किसी व्यक्ति विशेष की गाड़ी नहीं
किसी देवी देवता की सवारी नहीं ,
कोई इसे खड़े-खड़े चलाए
कोई गली पगडण्डी सड़क पर दौड़ाए ,
यह चलाने वाले का सेहत बनाए
सामने वाले को न कोई छति पहुचाए ,
साइकल की सवारी
है बहुत प्यारी।

2 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 15/02/2016
    • नरेन्द्र कुमार नरेन्द्र कुमार 16/02/2016

Leave a Reply