* माँ से दुनिया *

म से माया
म से महामाया
म से ममता
म से माँ
माँ से दुनिया
जगत संसार ,
माँ नहीं होती ,तो
कुछ नहीं होता ,
माँ ने बखसीस में दिया
सभी को जीवन
मानना पड़ेगा
उसका एहशान ,
माँ में है ममता
सभी कार्यो का
उस में है क्षमता
फिर क्यू बनी हुई है
लाचार मेमना ,
उस दिन भी कष्ट में थी
जब हम थे नादान बच्चा
आज भी वो कष्ट सह रही
जब हम हैं समझदार जवां ,
कोई न सुन रहा न देख रहा
उसकी चीत्कार
म से माँ।

Leave a Reply