औरत एक पहेली है

औरत एक पहेली है
दुनिया के साथ वो खुद की भी एक अच्छी सहेली है |
औरत के दिल की गहराई मापना आसान नहीं,
उसके अंदर किसी के लिए समंदर भी बसता है
और कुछ के लिए सुखा तालाब भी|
औरत के जज़्बातों से खेलने की कोशिश भी ना करना
चाहे तो वो किसी के लिए प्यार का बागान लगा दे,
और चाहे तो पल भर में नफरत का कांटा भी बो दे |
औरत ही एक घर को स्वर्ग बना के रखती है
और औरत ही किसी के स्वर्ग को नरक बना देती है |
औरत एक माँ की सुन्दर मूर्ति भी है ,
समय बुरा होने पर वो बाप का भी फ़र्ज़ खुद ही निभाती है |
औरत एक पहेली है
दुनिया के साथ वो खुद की भी एक अच्छी सहेली है |