* सुयोधन *

सुयोधन को लोगों ने द्वर्योधन बना दिया ,
उसके नाम का बवंडर बना दिया ,
क्या वह राजकुमार नहीं था
या उत्तराधिकारी नहीं था ,
सभी मिल जुल कर उसे जिद्दी बना दिया ,
सभी दोशी हैं उतना
जो लोग दोशी मानते हैं उसे जितना ,
बाल मन में ही उसके
गुरु माता-पिता संगे सम्बन्धी मामा ने
उस में राग द्ववेश बिठा दिया ,
लक्ष्या गृह के पहले लोगों ने
मिलन सामारोह और मेला लगा दिया ,
जुवा के दुशचक्र के पहले
द्वरोपति ने उसे अंधा बना दिया ,
सभी ने जो अनावश्यक प्रतिज्ञा किया
वचन दिया और वचन लिया
सभी के लिए उसे ही दोशी ठहरा दिया ,
सुयोधन को लोगों ने द्वर्योधन बना दिया
उसके नाम का बवंडर बना दिया।

2 Comments

  1. laxman 13/02/2016
    • नरेन्द्र कुमार नरेन्द्र कुमार 13/02/2016

Leave a Reply