मंजिल

जो जिंदगी से गिला करते है
कब खुशियो से मिला करते है
उलझकर रह जाते है राहो में
मक़ाम उन्हें न मिला करते है !!

!
!
!
D.K. Nivatiyaa