आसां नही है “इंदर”

दर्द को अक्स देकर,
अल्फ़ाज़ बना देना,
आसां नही है “इंदर”,
गम को अल्फाज़ों मे जता देना…!!

——————————–
Acct- IBN…..

Leave a Reply