जब हम बिखर गयें…

बिखरे हुए ल्फ्ज़,अल्फाज़ों मे निखर गयें,
निखरे मेरे-अल्फ़ाज़,जब हम बिखर गयें…

——————————————————–
Acct-इंदर भोले नाथ…

My blog-http://merealfaazinder.blogspot.in/

One Response

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 09/02/2016

Leave a Reply