आँसू…

मोहताज़ नहीं है बस,
ग़म के लिये ये आँसू…
पाया है मैने खुद को,
खुशी मे रोते हुए…

—————————
Acct- इंदर भोले नाथ…

Leave a Reply