मुक्तक- “नारी”- शकुंतला तरार

“नारी”

आँगन की है तुलसी नारी
थोड़ी सी पगली बेचारी
भावनाओं में बह जाती
वह पुरुषों की जननी नारी ||
शकुंतला तरार रायपुर (छ.ग.)

One Response

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 06/02/2016

Leave a Reply