मुक्तक- ”नारी”-शकुंतला तरार

“नारी”
प्रेरणा व संकल्प तुम्हीं हो पुरुषों की
श्रेष्ठता व संघर्ष तुम्हीं हो पुरुषों की
जन्मदात्री तुम धैर्यमयी तुम ओ नारी
करुणा तेज त्याग तुम्हीं हो पुरुषों की ||
शकुंतला तरार रायपुर (छ.ग.)

One Response

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 06/02/2016

Leave a Reply