सावन का मौसम आया………….

रिमझिम बरस रे बदरा
सावन का मौसम आया
पपीहा तान लगाये मीठा
सब निज मन को भाया
बह बह के पुरवाइ रसीली
तन मन को मदमस्त बनाई
ली देखो मुस्कान वसुंधरा
चारो ओर हरियाली छाई
गांॅव गाॅव में खेत खेत में
कजरी के स्वर ने गूॅज लगाया
मन चाहत में होकर बेकल
दीद सजन का आश लगाया
आजा तू अब हरस रे बदरा
सावन का मौसम आया ।

One Response

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 03/02/2016

Leave a Reply