गुलशन में जैसे फूल कली ताज़गी नहीं – GAZAL SALIMRAZA REWA

(बह्र )
(मफ़ऊल फ़ायलात मुफ़ाईल फ़ाइलुन )
!! ग़ज़ल !!
गुलशन में जैसे फूल कली ताज़गी नहीं !
तेरे बग़ैर ज़िन्दगी ये ज़िन्दगी  नहीं !!

मैं मिल नहीं सका तो ये कैसे समझ लिया !
हमको है तुमसे प्यार नहीं दोस्ती नहीं !!

खुशियां है तेरे दम से ही घर बार में मेरे !
तू खुश नहीं तो पास मेरे भी खुशी  नहीं !!

तू क्या गया की रौनके महफ़िल चली गयी !
इन चाँद में सितारों में भी  रौशनी नहीं !!

ख़ूनें जिगर से मैंने संवरा है शेर को !
मेरे ग़ज़ल का रंग कोई काग़ज़ी नहीं !!

मैं खुद गुनहगार हूँ अपनी निगाह में !!
उसके खुलूशो प्यार में कोई कमी नहीं !

तुमसे रज़ा के शेरों में चन्दन सी है महक !
तू जो नहीं ग़ज़ल भी नहीं शायरी नहीं !!
…………………………
15-04-13 by shayar salimraza rewa
9981728122

4 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 02/02/2016
  2. SALIM RAZA REWA salimraza 02/02/2016
  3. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 03/02/2016
  4. SALIM RAZA REWA salimraza 15/02/2016

Leave a Reply