रूह-ए-बंजर…

भीगती है रूह-ए-बंजर,
बस तेरी यादों के साये मे,
ये मुलाकात तो बस,
जिस्म की प्यास मिटाती है…

————————
Acct- इंदर भोले नाथ….