* बोल *

बोल बोल बोल
बोल प्यारे मीठा-मीठा बोल।

बोल कर कानो में शहद घोल ,
इसकी मिठास है बड़ा अपार ,
मिटा दे ऐ घृणा और संताप ,
राग द्ववेश से इसको नहीं तौल।

बोल बोल बोल
बोल प्यारे मीठा-मीठा बोल।

इसके जैसा कोई अस्त्र-शस्त्र नहीं ,
इसके जैसा कोई वस्त्र नहीं ,
यहाँ है सभी इसका प्रेमी ,
नहीं इसका कोई तोड़।

बोल बोल बोल
बोल प्यारे मीठा-मीठा बोल।

इसमे नहीं लगे कोई खर्चा ,
बिना इसके कोई नहीं चर्चा ,
इसके लिए न लेना परे कर्ज ,
फिर क्यूं घूमे तू बना रंक।

बोल बोल बोल
बोल प्यारे मीठा-मीठा बोल।

यह है सभी को प्यारा ,
राज दुलारा ,
जो इसका सही इस्तेमाल करें ,
सभी उसे प्यार-दुलार करें।

बोल बोल बोल
बोल प्यारे मीठा-मीठा बोल।

तू अपने बोल पर गर्व कर ,
सभी के दिलों में घर कर ,
न लगे इस पर कोई कर ,
फिर तू क्यूं बना है निःशब्द।

बोल बोल बोल
बोल प्यारे मीठा-मीठा बोल।