शोहरत…..(रै कबीर)

तू क्या जाने है मेरी शोहरत ऐ नादां
कुएं से बाहर निकल और
महफिल – ए – आम में शिरकत तो कर ।।
( रै कबीर )

Leave a Reply