||मिटती भारतीयता ||हाइकू ||

||मिटती भारतीयता ||हाइकू ||

“असभ्य लोग
अर्धनग्न शरीर
खोयी संस्कृति |

दुर्लभ प्रेम
मिटती आत्मीयता
स्वार्थी भावना |

आर्थिक जग
श्रेष्ठता उपहास
टूटती आशा |

सत्कर्म ढोंग
मिटती संस्कृतियाँ
बिकते लोग ||”

One Response

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 30/01/2016

Leave a Reply