* यह दुनिया है *

यह दुनिया है रंग बिरंगी
इसका रूप है सतरंगी
यह दुनिया है।

यह सभी को अपने रंग में रंगना चाहे ,
बेड़ी को गहना बना
सभी के शरीर में टंगना चाहे
सभी को घुमाए ऐ अपने आगे-पीछे
यह दुनिया है।

यह दुनियाँ है रंग बिरंगी
इसका रूप है सतरंगी
यह दुनिया है।

इसकी चाल बहुत निराली ,
यह पड़ोसे खाली थाली ,
जो दिखे ऊपर से सुन्दर
अंदर से काली ,
यह दुनिया है।

यह दुनियाँ है रंग बिरंगी
इसका रूप है सतरंगी
यह दुनिया है।

इसकी चाल बहुत है गहरा ,
यह चले ऐसे जैसे सभी
अँधा हो या बहरा ,
यह अपना दोष न देखे ,
दूसरे पर आरोप यह ठोके ,
यह दुनिया है।

यह दुनियाँ है रंग बिरंगी
इसका रूप है सतरंगी
यह दुनिया है।

यह सिर्फ अपने को जाने ,
दूसरे को न माने
अधिकार अपना यह ढूंढता ,
किसी की नहीं सुनता ,
अपना कर्तव्य यह न जाने ,
यह दुनिया है।

यह दुनियाँ है रंग बिरंगी
इसका रूप है सतरंगी
यह दुनिया है।

इसके रंग में रंगना माना नहीं ,
मानवता और कर्तव्य से भटकना नहीं ,
अपना तू रखना ध्यान ,
सभी का करना कल्याण ,
यह दुनिया है।

यह दुनियाँ है रंग बिरंगी
इसका रूप है सतरंगी
यह दुनियाँ है।

कहे नरेन्द्र सब को पहचानों ,
अच्छे बड़े का भेद तुम जानो ,
सब का बन जाओ ,
सभी को अपना बना लो ,
यह दुनिया है।

यह दुनियाँ है रंग बिरंगी
इसका रूप है सतरंगी
यह दुनिया है।

Leave a Reply