बड़ी ही पाकीज़ा……IBN

बड़ी ही पाकीज़ा और,
इमान थी चाहतें मेरी…
देखी जो तेरी शोख निगाहें,
हसरतें बेइमान हो गई…!!
————————-
Acct- इंदर भोले नाथ…

Leave a Reply