मेरे वो गम पुराने हो नहीं पाये

मेरे वो गम पुराने हो नहीं पाये
चैन से हम अभी तक सो नहीं पाये

यों सफर चलते हुए छिंटे लगे थे कि
कोशिशें लाखों किये पर धो नहीं पाये

दामन छुडा़ना दिल को हर मुमकिन हुआ तो था
जितनी चाहीं दूरियां वो लौटकर आये

उसके प्यार से महरुम तो हो ही गया लेकिन
दिललगी हिस्से की अपनी खो नहीं पाये

मुहब्बत में सिवा मेरे हुआ नुकसान उनको भी
मैनें खो दिया उनको तो मुझको वो नहीं पाये

One Response

  1. davendra87 davendra87 25/01/2016

Leave a Reply