आगे बढ़ो

अपनी सोंच को उड़ने ना दे
वही आत्मनियंत्रण है
अपने विश्वास को खोने ना दे
वही आत्मविश्वास है
अपने सच को छुपने ना दे
वही तो हरिश्चंद्र की परछाई है
अपनी सोंच को खोने ना दे
– काजल / अर्चना

Leave a Reply