सोती हुई बिटिया को देखकर

अभी-अभी
हुलसकर सोई हैं
इन साँसों में स्वरलहरियां

अभी-अभी
इन होठों में खिली है
एक ताज़ा कविता

अभी-अभी
उगा है इन आंखों में
नीला चाँद

अभी-अभी
मिला है
मेरी उम्मीदों को
एक मज़बूत दरख़्त

Leave a Reply