हम सयाने हो गए – शिशिर “मधुकर”

हम प्यार में तेरे दीवाने हो गए, वो बाकी सब रिश्ते पुराने हो गए
जोश जीने का फिर से आ गया, कितने सधे अपने निशाने हो गए.

जब से ख़ुशी तेरे चेहरे पे खिली, चिलचिलाती धूप में छाया मिली
पहले पहले जाम छूते हम डरे , अब तो नशा करते ज़माने हो गए.

आशिकों ने यार का सज़दा किया, एक बुत बना दिल के कोने में रखा
धर्म की दीवारें भी फिर गिर गई, ये मस्जिद और मंदिर वीराने हो गए .

अब से पहले कारवां था मंजिले थी, फिर भी जीवन मे कोई कमी थी
जब से मधुकर आ गए वो साथ मेरे, ये तन्हा सफर रंगी सुहाने हो गए.

एक यार ने छोड़ा तो गिरने से बचे, बाग़ अपनी चाहतों के फिर से सजे
सम्भले दिल की देखकर हालत हमारी, लोग समझे हम सयाने हो गए.

शिशिर “मधुकर”

7 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 18/01/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir 19/01/2016
  2. omendra.shukla omendra.shukla 18/01/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir 19/01/2016
  3. रिंकी 08/02/2016
    • रिंकी 08/02/2016
    • Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 08/02/2016

Leave a Reply