ये दिल जो कहे हम करते रहें…

writerstorm.in

writerstorm.in


कुछ कह ना सकूँ, चुप रह ना सकूँ !
ना इसमे सुकूं, ना उसमे सुकूं !!
किस कफ़स ने मुझको बाँध रखा,
कि आग हूँ मैं, पर जल ना सकूँ !!

इक सोच, जो मेरी ज़हन में है !
हालत, जो मेरे सहन में है !!
एक मैं हूँ जो, मैं हूँ ही नहीं,
एक कैद, जो मेरी रहन में है !!

अभी हूँ मैं खुद से ज़ुदा-ज़ुदा !
हूँ ख़फा, मगर मैं ख़फा नहीं !!
किस रात ने मुझको घेर रखा,
है सुबह, मगर हुई सुबह नहीं !!

एक टायर फिर मैं सड़क रखूं !
ले छड़ी मैं पीछे दौड़ पडूँ !!
फिर इंटरवल की घंटी पर,
मैं बाउंड्री वॉल को फांद चलूँ!!

फिर कन्चों की एक फ़ौज़ सजे !
फिर गिल्ली डण्डा लीग बने !!
फिर दिए छुपाऊँ मिटटी में,
फिर काग़ज़ की एक नांव बने !!

ना सुबह के 6, ना रात के 10 !
कोई कहने वाला ना हो बस !!
ये दिल जो कहे हम करते रहें,
आज़ाद फिरें हम तोड़ कफ़स !!

ये दिल जो कहे हम करते रहें,
आज़ाद फिरें हम तोड़ कफ़स !!
Read More…

2 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 18/01/2016

Leave a Reply