||इंद्रधनुषी जीवन ||

“कुछ नगमे अधूरे अब भी है
कुछ गीत नए होठो पे बाकी है
सपनो के उस दर्पण में
कुछ ख्वाब अभी भी बाकी है ,

इंद्रधनुषी इस जीवन में
फिर से कुछ रंग नए भरने है
जीवन की सच्चाई से ऊपर उठकर
कुछ मुकाम नए हासिल करने है ,

लम्बा सफर है जीवन का
संघर्षों भरी कहानी है
ना हार मानो कभी भी इसमें
इस हार के आगे जीत सुहानी है ,

ना रूठो छोटी मुसीबतों से
प्यार करो तुम इनको जी भरके
फिर हर मंजिल आसां है अपनी
ना मुह मोड़ो इनसे तुम घबराके ,

हसते हुए इस पल को जियो
यही श्रेष्ठता की निशानी है
डर के भागे अगर इससे तुम
तो जीवन जीना फिर बेमानी है ||”

3 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir 15/01/2016
  2. omendra.shukla omendra.shukla 16/01/2016
  3. shampa shampa 16/01/2016

Leave a Reply