नए हालात अक्सर आज़माते हैं

नए हालात अक्सर आज़माते हैं
पुराने वक्त के तेवर दिखाते हैं ।

बिखरते टूटते हर आशियाने में
न जाने लोग कैसे मुस्कुराते हैं।

ज़मीं से आसमां तक मौत के बादल
नज़र के सामने हलचल मचाते हैं।

शिकायत का यही अंजाम होता है
उमर भर दर्द के रिश्ते निभाते हैं।

गुज़रते वक्त के हर खुशनुमां हिस्से
सदा तन्हाइयों में याद आते हैं।

Leave a Reply