न छेड़ो यारो ……………. ( ग़ज़ल )

न छेड़ो यारो मुझे मेरे हालात पे रहने दो !
मिले जो जख्म जमाने से मुझे सहने दो !!

कल मेरी मुस्कराहट से जलते थे लोग !
हुई बद्दुआ कबूल आज उन्हें ख़ुश रहने दो !!

इल्तज़ा रखते थे कब से हमे रुलाने की !
न रोको आँखों के अश्क अब बहने दो !!

वफ़ा के नाम से अगर हो जाए वो मशहूर !
फिर शौक से हमे बेवफा,उनको कहने दो !!

मगर कर एक अहसान “धर्म” पर तू इतना
न कर मजबूर, बात दिल की दिल में रहने दो !!
!
!
!
डी. के. निवातिया _______

11 Comments

  1. omendra.shukla omendra.shukla 14/01/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 14/01/2016
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 14/01/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 14/01/2016
  3. Anuj Tiwari 14/01/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 14/01/2016
  4. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 14/01/2016
  5. Meena Bhardwaj Meena bhardwaj 15/01/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 15/01/2016
  6. salimraza salimraza 15/01/2016
    • डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 15/01/2016

Leave a Reply