वो हमसफ़र अब तो आ (गीत)

वो हमसफ़र अब तो आ
सावन घटा बनके छा
बरस-बरस के मेरे आँगन
तन-मन को तू मेरे भीगा
वो हमसफ़र अब तो आ …1

हँसी मनचली दीवानी को
मासूम मस्तानी लड़की को
आ जा न गले लगा
यूँ न ऐसे तड़पा
वो हमसफ़र अब तो आ …2

सँजते-सँवरते हैं रातों में भी
सुरमा लगाते हैं आखों में भी
पतझड़ हैं ये ज़िंदगी
बसंत बनके तू छा जा
वो हम सफ़र अब तो आ .. 3

तेरे नाम लिखती हूँ अपनी हाथों में
तुझे बसाती हूँ हरघडी मैं सासों में
न डर ज़माने से निभा तू वादा
तू जोड़ टूटी हुई प्रेम धागा
वो हमसफ़र अब तो आ …4

बेरंग ज़िंदगी में रंग तो ला
सूखी सागर प्रेम से भर जा
लेके आजा दर्दे दिल की दवा
खामोश चेहरा में फूल खिला
वो हमसफ़र अब तो आ …5

@@ Dushyant Kumar patel @@

Leave a Reply