मेरे महबूब कभी मिलने मिलाने आजा-GAZAL SALIM RAZA REWA

! GAZAL !
मेरे महबूब कभी मिलने मिलाने आजा
मेरी सोई हुई तक़दीर जगाने आजा !

तेरी आमद को समझ लुगा मुक़द्दर अपना
रूह बनके मेरी धड़कन मे समाने आजा !

मैं तेरे प्यार की खुश्बू से महक जाऊगा
गुलशने दिल को मुहब्बत से सजाने आजा !

तेरी उम्मीद ज़माने से लिए बैठे हैं
कर के वादा जो गये थे वो निभाने आजा !

मेरे सपनो का महल तेरे बिना सूना है
मेरे ख़ाबों को तू रंगीन बनाने आजा !

तेरी हर एक अदा जान से प्यारी मुझको
तू हंसाने न सही मुझको सताने आजा !

अब तड़प दिल की नही और सही जाती है
प्यार की कोई ग़ज़ल मुझको सुनाने आजा !

by salimraza rewa 9981728122

5 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir 09/01/2016
  2. SALIM RAZA REWA salimraza 09/01/2016
  3. Shishir "Madhukar" Shishir 09/01/2016
  4. SALIM RAZA REWA salimraza 09/01/2016
  5. Shishir "Madhukar" Shishir 09/01/2016

Leave a Reply