“मेरी क़लम भाग-15″डॉ. मोबीन ख़ान

भटके हुए को रास्ता दिखा दो।
अनपढ़ को भी पढ़ना सिखा दो।।
तू देवी है विद्या की जलवा दिखा दो।
ऐ माता तू सबको ज्ञानी बना दो।।
भटके हुए को रास्ता दिखा दो।।

हर तरफ ज्ञान का परचम लहरा दो।
गैरों को भी चलना सिखा दो।।
ज़ो मंदबुद्ध हैं उनकी भी सुन लो।
सरस्वती माँ ज्ञान के दीप ज़ला दो।।
भटके हुए को रास्ता दिखा दो।।

अपना रहम सब पर कायम रखो।
लोगों की गलतियों को सुधार दो।।
सच लिखने का ताकत लोगों को देदो।
ऐ माँ सब को सच लिखना सिखा दो।।
भटके हुए को रास्ता दिखा दो।।

अज्ञानियों का भी ख्याल रख लो।
बच्चों पर भी अपना करम कर दो।।
वो फूलें-फलें, ज़ग में छा जाएं।
उनके दिलों में ऐसे ज्ञान के दीप ज़ला दो।।
भटके हुए को रास्ता दिखा दो।।

6 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 08/01/2016
    • Dr. Mobeen Khan Dr. Mobeen Khan 08/01/2016
  2. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 08/01/2016
    • Dr. Mobeen Khan Dr. Mobeen Khan 08/01/2016
  3. asma khan asma khan 08/01/2016
    • Dr. Mobeen Khan Dr. Mobeen Khan 09/01/2016

Leave a Reply