मोहब्बत है तुमसे – 1

सनम तेरे बिन जीना ही क्या जीना
अधूरी मेरी जान तुम जो न हो ऐ हसीना !

जैसे बिन पानी के हो कोई खाली कुआं
वैसे ही रह जाऊँगा में काय बिन कोई रूह भटकता हुआ !!

____

Note: Apologies for any spell mistakes, arises due to typing in English

2 Comments

  1. Raj 07/01/2016
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 07/01/2016

Leave a Reply