इस शहर में (ग़ज़ल)

इस शहर में दिल के काले है बहुत !
अपने धुन पे गुम मतवाले है बहुत !!

कैसा ये शहर प्यासा भटके पानी को ,
हर गली चौराहों में मैखाने है बहुत !

आज भी गरीबो के पास घर नहीं ,
इस शहर में ऊचीं ईंमारते है बहुत !

चारो – ओर शोरगुल दौड़ रहा शहर ,
हर शख्स अन्जान मुश्किले है बहुत !

यूँ सोचते बैठे न रह चल दौड़ अब ,
सोच लें जाना कहाँ रास्ते है बहुत !

Dushyant kumar patel

3 Comments

  1. asma khan asma khan 07/01/2016
  2. SALIM RAZA REWA salimraza 07/01/2016
  3. Dushyant patel 07/01/2016

Leave a Reply