मेरी माँ

तूने ही सिखाया ,ज़िन्दग़ी का हर पाठ,
तेरे ही आँचल के नीचे ज़न्नत हे मेरी माँ|

अपने अंशु छुपाकर ,मुझे खुशिया देकर ,
हर पल मुस्कराना ,आदत हे तेरी माँ|

मैं रहू या न रहू,
तेरे सपनो को पूरा करने मे अपनी ज़िन्दग़ी न्योछावार कर देना ,
खुशकिस्मती हे मेरी माँ ..

4 Comments

  1. asma khan asma khan 04/01/2016
    • shalu verma shalu verma 05/01/2016
  2. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 04/01/2016
    • shalu verma shalu verma 05/01/2016

Leave a Reply