“नयी उमँग”

नई उमँग है, नया सवेरा
नयी तंरग है, नया उजेला……….!!

नया साल है आया, खुशियाँ संग है लाया
करो कुछ ऐसे संकल्प की अच्छा हो हमारा कल……….!

गलतियाँ न दोहराओ पुरानी,
लिखो कुछ नयी कहानी……….!

जब जागे तभी सवेरा
नयी उमंग है ,नया सवेरा……!

5 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 04/01/2016
  2. asma khan asma khan 04/01/2016
  3. omendra.shukla omendra.shukla 04/01/2016
  4. asma khan asma khan 05/01/2016
  5. Alok Upadhyay Alok Upadhyay 07/01/2016

Leave a Reply