चाहत ये जो है ……….

इतनी भी चाहत न कर कि आफत हो जाये
सारी दुनियासे तेरी खातीर बगावत हो जाये
बस रख अपने दिलके किसी कोनेमे बसाकर
कही चाहत मे मेरा प्यार शापित हो जाये

डर लगता है अक्सर तुझे खो न दु मै कही
शायद यही चाहत मेरी ईबादत हो जाये
देख न पाऊंगा होते तुझे रूक्सत डोलीमे
यही चाहत मेरे मरने का कारण हो जाये

चाहता तो हु मै भी तुझे बेइंतहा ऐ सनम
डरता हु इस संगतकी मुझे आदत हो जाये
हा जी न पाऊंगा यकिनन मै तेरे बिन
नजदीकियों के बाद जुदा किस्मत हो जाये
———-
शशिकांत शांडिले(SD), नागपूर
भ्र.९९७५९९५४५०
दि.०२/०१/२०१६
Chahat Ye Jo Hai

4 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 02/01/2016
  2. शशिकांत शांडिले SD 02/01/2016
  3. omendra.shukla omendra.shukla 02/01/2016
    • शशिकांत शांडिले SD 02/01/2016

Leave a Reply