मोतियों की तरह जगमगाते रहो – GAZAL SALIM RAZA REWA

GAZAL !
मोतियों की तरह जगमगाते रहो 
बुल बुलों की तरह चहचहाते रहो !

जब तलक आसमां में सितारें रहें 
ज़िंदगी भर सदा मुस्कुराते  रहो !

इन फ़िज़ाओं में मस्ती सी छा जाएगी 
अपनी ज़ुल्फ़ों की ख़ुश्बू  उड़ाते रहो !

हम भी तो आपके जां निसारों में हैं 
क़िस्सा- ए- दिल हमें भी सुनाते रहो !

देखना रौशनी कम न होवे कहीं  
इन चराग़ों की लौ को बढ़ाते रहो !

इतनी खुशियां मिले ज़िंदगी में तुम्हे 
दोनों हांथों से  सबको  लुटाते  रहे !

रंगे गुल रुख़ पे हरदम नुमाया रहे 
जब निग़ाहें मिले मुस्कुराते रहो !

212 212 212 212
shayar salimraza rewa
9981728122

2 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir 31/12/2015
  2. salimraza salimraza 31/12/2015

Leave a Reply